Ro Kar Nahi Dekha

बरसो गुजर गाए रो कर नहीं देखा
आंखों में है नींद मगर सो के नहीं देखा
वो क्या जाने दर्द मोहब्बत का
जिसने कभी किसी का हो कर नहीं देखा

Share Button